उत्तराखण्ड ज़रा हटके मसूरी

धूमधाम के साथ मनाया गया नाग पंचमी का पर्व, हजारों की संख्या में नाग मंदिर पहुंचे श्रद्धालु…..

ख़बर शेयर करें -

मसूरी में धूमधाम से बनाया गया नाग पंचमी का पर्व 500 साल पुरानी नाग देवता की मूर्ति पर हुआ दूध अभिषेक…..

मसूरी-मसूरी में 500 साल से भी ज्यादा पुराने नाग मंदिर में नाग पंचमी का पर्व धूमधाम के साथ मनाया गया इस अवसर पर मसूरी और आसपास के क्षेत्र से हजारों की संख्या में श्रद्धालु नाग मंदिर पहुंचे……. नाग मंदिर पर स्थापित 500 साल से भी ज्यादा पुरानी मूर्ति का दुग्धाभिषेक किया और नाग देवता के दर्शन किए. इस मौके पर नाग मंदिर समिति द्वारा आयोजित शिव महापुराण कथा का समापन किया गया

यह भी पढ़ें 👉  खाद्य आपूर्ति विभाग के क्षेत्रीय निरीक्षक ने किया पेट्रोल पंप का औचक निरीक्षण…..

 

नागपंचमी के दिन नाग देवता के मंदिर में मसूरी और आसपास के शहरों, गांवों के लोग बड़ी संख्या में पहुंचे और नाग देवता के दर्शन किए. इस दौरान श्रद्धालुओं ने मनौती भी मांगी. इस मौके पर मंदिर समिति द्वारा विशाल भंडारे का भी आयोजन किया गया. ग्रामीणों का कहान है कि उनके कुल देवता नाग हैं. जो कोई भक्त इस मंदिर से सच्चे मन से मन्नत मांगता है, उसकी मुराद अवश्य ही पूरी होती है

यह भी पढ़ें 👉  जम्मू कश्मीर,कठुआ में शहीद हुए उत्तराखंड के पांच शहीदों को आप ने दीपदान कर दी श्रद्धांजलि.......

 

नाग मंदिर के मुख्य पुजारी मदन सिंह कोठाल ने बताया की यह मंदिर करीब 500 साल पुराना बताया जाता है. कहा जाता है कि वर्षों पहले गाय चरकर शाम के समय अपने गौशाला में पहुंचती थी, तो उसके थनों में दूध नहीं पाया जाता था

यह भी पढ़ें 👉  फसलों को नुकसान पहुंचा रहे आवारा मवेशियों को लेकर मुखर हुए जनप्रतिनिधी

 

क्योंकि वह अपना दूध पत्थर पर छोड़ कर आ जाती थी. जिसे नाग देवता पी जाते थे. गाय के मालिक ने चुपके से गाय को पत्थर पर दूध छोड़ते देखा और देखा कि उस दूध को एक नाग पी रहे थे. तभी से इस स्थान पर नाग मंदिर की स्थापना की गई. जिसके बाद क्यार कुली भट्टा गांव के लोग नाग देवता को कुलदेवता मानने लगे

Leave a Reply