उत्तराखण्ड उधमसिंह नगर क्राइम

फर्जी प्रमाण पत्र के आधार पर नियुक्ति, पकडे गए गुरूजी, मुकदमा दर्ज, होगी कार्यवाही…..

ख़बर शेयर करें -

उधमसिंह नगर- फर्जी प्रमाण पत्र के आधार पर नियुक्ति लेने के आरोप उप शिक्षा अधिकारी की जांच के बाद प्रारंभिक शिक्षा निदेशक के आदेश पर हुई कर्येवाही, रुद्रपुर फर्जी जाति प्रमाण पत्र के आधार पर शिक्षा विभाग को गुमराह करने के आरोपी सहायक अध्यापक के खिलाफ मुकदमा दर्ज हो गया है।

 

 

आपको बता दें यूपी शिक्षा अधिकारी की जांच रिपोर्ट के बाद प्रारंभिक शिक्षा निदेशक के आदेश पर पुलिस ने कार्रवाई की जांच रिपोर्ट में सहायक अध्यापक पर दो बार जाति प्रमाण पत्र के आधार पर एक ही विद्यालय में नियुक्ति लेने दो बार बीटीसी करने और बार-बार विभाग को गुमराह कर सरकारी सेवा नियमावली का उल्लंघन किया जाने का आरोपित है प्रारंभिक शिक्षा निदेशालय देहरादून की संस्तुति के बाद जिला शिक्षा अधिकारी प्रारंभिक ने पुलिस को उप जिला शिक्षा अधिकारी की जांच रिपोर्ट प्रस्तुत की।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी- फिल्टर प्लांट से बंद रही 5:30 घंटे पानी की आपूर्ति, लोग परेशान......

 

 

साथ ही बताया  कि बर्खास्त सहायक अध्यापक सुब्रत अधिकारी ने राजकीय प्राथमिक विद्यालय फुल सुंगा मैं वर्ष 2005 में जाति प्रमाण पत्र के आधार पर नियुक्ति ली थी शिकायत आने के बाद जब अभिलेख की पड़ताल की, जांच में पाया कि फुल सुंग सरकारी विद्यालय में नियुक्ति 16 अक्टूबर 2009 के अनुसार की गई थी जिसमें सहायक अध्यापक द्वारा खुद को विशिष्ट बीटीसी प्रशिक्षण प्राप्त बताया गया था जबकि वर्ष 2005 में आरोपी शिक्षक की नियुक्ति शक्ति फार्म वार्ड  में हुई थी जब जांच अधिकारी ने 25 सितंबर 2017 को प्रथम नियुक्ति और नियुक्ति के लिए आरक्षण संबंधित साक्ष्य मांगे तो आरोपी शिक्षक ने जांच अधिकारी को भ्रमित कर साक्ष्य पेश कर दिए और वर्ष 2008-2009 में अवैधानिक अवकाश दिखा कर कुछ माह के लिए गायब हो गया।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी- छात्रसंघ अध्यक्ष पर केस से भड़के छात्र, कोतवाली में किया प्रदर्शन; कॉलेज गेट पर जड़ा ताला….

 

 

 

जांच रिपोर्ट के मुताबिक पुन फुल सुंगा सरकारी विद्यालय में विशिष्ट बीटीसी शिक्षक प्राप्त कर नियुक्ति ले ली, जब विवेचना अधिकारी ने पड़ताल की इस पर विद्यालय के रजिस्टर में कोई साइन नहीं थे और आवैतनिक अवकाश प्रमाण पत्र भी था जांच फर्जी पाया गया की सहायक अध्यापक सुब्रत अधिकारी ने दो बार अलग-अलग जाति प्रमाण पत्र के आधार पर नियुक्ति ली और वर्ष 2008 में 2009 में बिना सूचना दिए विद्यालय से गायब रहकर सरकारी सेवा नियमावली का उल्लंघन किया है जांच अखियां  रिपोर्ट के बाद जिला शिक्षा अधिकारी प्रारंभिक शिक्षा को प्रस्तुत रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है और शिक्षक के खिलाफ गिरफ्तारी की तैयारी चल रही है जल्दी ही फरार शिक्षक को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

Leave a Reply