उत्तराखण्ड काशीपुर ज़रा हटके

उत्तरांचल पंजाबी महासभा ने एसपी चंद्र मोहन सिंह से बात कर सौंपा ज्ञापन….

ख़बर शेयर करें -

काशीपुर-(सुनील शर्मा) जसपुर विधायक द्वारा अपने ऊपर हमला करने का आरोप लगाये जाने के बाद उत्तरांचल पंजाबी महासभा विधायक के खिलाफ लामबंद हो गई है। उत्तरांचल पंजाबी महासभा के जसपुर अध्यक्ष महेन्द्र कुमार के नेतृत्व में अनेकों लोग रविवार को  एसपी काशीपुर चंद्रमोहन सिंह से मिले और जसपुर विधायक आदेश चौहान द्वारा जसपुर नगरवासियों के किये जा रहे उत्पीड़न से निजात दिलाने की मांग की। एसपी काशीपुर चंद्रमोहन सिंह को दिये पत्र में उत्तरांचल पंजाबी महासभा के पदाधिकारियों ने विधायक पर आरोप लगाते हुए कहा कि विधायक आदेश चौहान अपने पद का नजायज दुरुपयोग कर रहे है।

 

जनता के आपसी मतभेदों में वे जानबूझ कर बीच में पड़ कर समझौता कराने के बहाने किसी एक पक्ष पर दबाव डाल कर नजायज फायदा उठाते हैं। जिससे सभी परेशान रहते है व गलत लोग इसका फायदा उठाते है। उन्होंने कहा कि यही प्रक्रिया विधायक द्वारा कृष्ण कुमार पुत्र सुनील कुमार निवासी अंगदपुर के विवाद में अपनाई। उनके द्वारा सुखदेव सिंह के माध्यम से कृष्ण कुमार को समझौता करवाने के उद्देश्य से बुलवाया। 75 साल के कृष्ण कुमार अपने भई मदनलाल (अपाहिज) व अपने पुत्र अवनीश कुमार के साथ 26 अगस्त 2022 को प्रातः लगभग 10 बजे पहुँचे ।

यह भी पढ़ें 👉  पौड़ी चुनाव ड्यूटी में पुलिसकर्मियों को ले जा रही बस के ब्रेक फेल, घायल अस्पताल में भर्ती…….

 

जहाँ सुनील कुमार अपने साथियों सहित उपस्थित था। इन्हें फायदा पहुँचाने के मकसद से विधायक इन बुजुर्ग एवं अपाहिज पर नजायज दबाव डालने लगे। डराने धमकाने की नीयत रखते हुए उनके द्वारा मारपीट कर गाली गलौच करी व जानबूझकर अपने गनर से झूठी रिपोर्ट लिखवाई। उन्होंने बताया कि कृष्ण कुमार द्वारा भी रिपोर्ट दर्ज की गई व उनका मेडिकल हुआ। विधायक अपने राजनीतिक पद का दुरुपयोग कर नजायज पुलिस पर दबाव डाल कर समस्त उच्स अधिकारी विशेष कर एसएसपी रुद्रपुर पर आरोप लगा कर अपने राजनीतिक प्रभाव से प्रचार प्रसार कर पुलिस पर दबाव बना कर कमजोर जनता को पीड़ित कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें 👉  भाजपा सरकार जुमलों के सिवा नहीं : अलका पाल......

 

पुलिस विभाग भी इस दबाव में आ कर जनता को न्याय दिलवाने में असमर्थ दिखाई दे रहा है। उन्होंने बताया कि उनका सुरक्षा कर्मी जो कि सरकार द्वारा दिया गया था वह विधायक का पीए के रूप में कार्य कर रहा था। उसके कॉल रिकार्ड की जाँच कर उसके खिलाफ कार्यवाही की जाये। साथ ही विधायक के साथ एक आम नागरिक की तरह बर्ताव करते हुए उनके खिलाफ भी आवश्यक कार्यवाही की जाये।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी- बनभूलपुरा में बवाल का नहीं दिखा असर, हिंसा के बीच भी खूब पड़े वोट…..

 

यदि उक्त मामले में न्याय संगत कार्रवाई नहीं की गई तो हमें मजबूरन प्रदेश स्तरीय आंदोलन करने पर मजबूर होना पड़ेगा। पत्र देने वालों में पूर्व व्यापार मंडल अध्यक्ष जसपुर त्रिलोक अरोरा, प्रदेश कोषाध्यक्ष राजीव परनामी, जिला संगठन मंत्री मनीष सपरा, जिला मीडिया प्रभारी पवन बाठला, मदनलाल, कृष्ण कुमार, विजय कुमार, मंगलराम, रोशनलाल आदि शामिल थे।

Leave a Reply