उत्तराखण्ड ज़रा हटके नैनीताल

डी०एस०बी० परिसर कुमाऊँ विश्वविद्यालय नैनीताल के संगीत विभाग द्वारा दो दिवसीय कार्यशाला के प्रथम चरण का आयोजन किया गया…..

ख़बर शेयर करें -

नैनीताल- डी०एस०बी० परिसर कुमाऊँ विश्वविद्यालय नैनीताल के संगीत विभाग द्वारा दिनांक 19-10-2023 को “भारतीय शास्त्रीय संगीत कार्यक्रम श्रृंखला” के “द्वितीय अध्याय” में “तबला” वाद्य पर आधारित दो दिवसीय कार्यशाला के प्रथम चरण का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में बतौर मुख्यतिथि अधिष्ठाता छात्र कल्याण प्रो० संजय पंत जी ने डॉ० विजय कृष्ण, डॉ० रेखा साह, श्री दिनेश डंडरियाल, प्रो० ललित तिवारी एवं प्रो० आशीष मेहता के साथ मिलकर माँ सरस्वती के चरणों में दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

यह भी पढ़ें 👉  आर्मी पब्लिक स्कूल लैंसडौन में अंग्रेजी वाद- विवाद प्रतियोगिता का आयोजन.......

कार्यशाला में उपस्थित इन सभी अतिथिओं ने विद्यार्थिओ को प्रोत्साहित करने हेतु संक्षिप्त वक्तव्य भी दिए। कार्यशाला के प्रथम चरण में संगीत विभाग, डी०एस०बी० परिसर के विभागाध्यक्ष डॉ० गगनदीप होठी ने इस दो दिवसीय कार्यशाला के संचालक डॉ० विजय कृष्ण जी का विस्तृत परिचय दिया। डॉ० विजय कृष्ण जी ने सर्वप्रथम ताल तीनताल में, विभिन्न घरानों की वादन शैलीयों का समावेश करते हुए, अपना तबला एकल वादन प्रस्तुत किया। आपके साथ हारमोनियम पर लहरा संगत, संगीत विभाग के ही सहायक प्राध्यापक श्री अलंकार महतोलिया जी ने की।

यह भी पढ़ें 👉  धारचूला में काली नदी में गिरा एक वाहन,एक महिला की मौत व दो अन्य वाहन सवार लापता.....

 

कार्यक्रम के द्वितीय चरण में डॉ० विजय कृष्ण जी ने कार्यशाला में प्रतिभाग कर रहे समस्त विद्यार्थियों को ताल तीनताल में बजाए जाने वाले विभिन्न क़ायदे, पेशकार, पलटे, रेले, टुकड़े इत्यादि का विस्तृत रूप से प्रशिक्षण दिया। द्वितीय चरण में आपके साथ हारमोनियम पर लहरा संगत, संगीत विभाग के ही सहायक प्राध्यापक डॉ० रवि जोशी जी ने की। इस दो दिवसीय कार्यशाला का मुख्य उद्देश्य संगीत के विद्यार्थियों को “तबला वादन की बारीकियों” को विस्तृत रूप से समझाना है।

यह भी पढ़ें 👉  विद्या प्रवेश कार्यक्रम के द्वितीय चरण का मूल्यांकन......

 

कार्यशाला में डॉ० अशोक कुमार, डॉ० संध्या यादव, डॉ० निधि साह, डॉ० हेम भट्ट, डॉ० रितिशा शर्मा, डॉ० जीवन उपाध्याय, डॉ० हिमानी जलाल, डॉ० लक्ष्मी धस्माना, श्रीमती बबीता लोहानी इत्यादि ने प्रतिभाग किया। दिनांक 20-10-2023 को कार्यशाला का द्वितीय एवं अंतिम सत्र आयोजित किया जायेगा जिसमें डॉ० विजय कृष्ण द्वारा तीनताल के अतिरिक्त, विभिन्न अलग-अलग मात्राओं की तालों पर विस्तृत रूप से चर्चा की जायेगी।

Leave a Reply