उत्तराखण्ड काशीपुर ज़रा हटके

23 नवंबर को होगा 21 गरीब कन्याओं का विवाह…..

ख़बर शेयर करें -

काशीपुर- काशीपुर में आज माँ बाल सुन्दरी परिणय सेवा संस्था गत वर्षो की भांति इस वर्ष भी 23 नवम्बर (देवउठावनी एकादशी) के दिन चैती मेला परिसर में 21 गरीब परिवारों की कन्याओं का सामूहिक विवाह करवायेगी। जिसकी कि तैयारियां शुरू की जा चुकी हैं। बाल सुन्दरी संस्था  129 कन्याओं का विवाह करा चुकी है। आपको पता तो चले की माँ बाल सुन्दरी परिणय सेवा संस्था के अध्यक्ष एवं मुख्य आयोजक आनन्द कुमार (एड0) ने जानकारी देते हुए

 

बताया कि बाल सुन्दरी संस्था वर्ष 22 नवम्बर 2015 से लगातार चैती मेला परिसर में गरीब परिवारों की कन्याओं के सामूहिक विवाह का आयोजन कर रही है। सिर्फ कोरोना काल का छोड़कर अब तक बाल सुन्दरी संस्था करीब सवा सौ से अधिक (129) गरीब परिवारों की कन्याओं का विवाह करा चुकी है। गत वर्ष 4 नवम्बर 2022 को भी संस्था ने 11 कन्याओं का विवाह धूमधाम से कराया गया था। यह संस्था का सातवां सामूहिक विवाह का आयोजन है।

यह भी पढ़ें 👉  पौड़ी पुलिस ने 9.04 ग्राम अवैध स्मैक का परिवहन करते हुये एक नशा सप्लायर को किया गिरफ्तार.....

 

बाल सुन्दरी संस्था के अध्यक्ष आनन्द कुमार (एड0) एवं महासचिव सुरेश शर्मा ने बताया कि इस बार बाल सुन्दरी संस्था ने 21 गरीब परिवारों की कन्याओं का सामूहिक विवाह कराने का निर्णय लिया है। विवाह हेतु रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। 21 कन्याओं के रजिस्ट्रेशन के उपरांत संस्था की फिजिकल वेरिफिकेशन टीम के अध्यक्ष अनिल कुमार पार्षद के नेतृत्व में वर-वधू के निवास स्थान पर टीमें भेजकर उनका स्थलीय फिजिकल वेरिफेकिशन करवाया गया है, ये कार्य भी लगभग पूरा हो चुका है।

 

इसके उपरांत चार सदस्यीय पेपर जाँच कमेटी सभी संलग्न पेपरों की फाइनल जांच करेगी, इसके अलावा वर-वधू को नाबालिग / पुर्नविवाह का शपथनामा भी नोटरी से सत्यापित कराके देना पड़ता है। कई महीनों की तैयारियों के बाद ही यह प्रक्रिया पूरी हो पाती है। संस्था के अध्यक्ष एवं कार्यक्रम के मुख्य आयोजक आनन्द कुमार ने बताया कि काशीपुर में जसपुर खुर्द स्थित बांसियोंवाला मंदिर समिति की ओर से वर्ष 2007 में सामूहिक विवाह का आयोजन किया गया था।

यह भी पढ़ें 👉  भाजपा नेताओं के इशारे पर काम कर रहे बीएलओ......

 

तत्कालीन समिति के अध्यक्ष सुधीर चन्द्र आढ़ती की देखरेख में वर्ष 2010 तक हर वर्ष 11 गरीब कन्याओं का विवाह कराया जाता रहा था। इन सभी आयोजनों में बाल सुन्दरी संस्था के संस्थापक अध्यक्ष स्व. बाबूराम  का भी हमेशा सहयोग रहता था। समिति के अध्यक्ष सुधीर चन्द्र के निधन के बाद समिति ने यह आयोजन बंद कर दिया था। संस्था के अध्यक्ष आनन्द कुमार ने बताया कि वहीं की प्रेरणा से उनके पिता स्व. बाबूराम जी ने सर्वप्रथम चैती मेला परिसर में 22 नवम्बर 2015 को 21 गरीब परिवारों की कन्याओं का सामूहिक विवाह कराकर इस शुभ कार्य की शुरूआत की थी।

यह भी पढ़ें 👉  अवैध शराब की बिक्री की रोकथाम के लिए चलाया गया अभियान.....

 

इस बार संस्था का यह सातवां आयोजन है। संस्था अब तक 129 गरीब परिवारों की कन्याओं का विवाह करवा चुकी है। संस्था के महासचिव एवं मीडिया प्रमुख सुरेश शर्मा ने बताया कि कई महीनों की तैयारियों के बाद ही यह पुनीत कार्य सम्पन्न हो पाता है, यह एक बड़ा कार्य होता है। संस्था द्वारा सामूहिक विवाह में आये आवेदन में संलग्न पेपरों की जांच पड़ताल के लिए अलग-अलग स्थानों पर संस्था की टीमों को भेजकर एवं लोगों से सम्पर्क कर विवाह के योग्य पात्र लोगों को छांटा जाता है ।

 

संस्था के कोषाध्यक्ष एवं धार्मिक कार्यक्रम प्रमुख पंडा विकास अग्निहोत्री ने बताया कि सामूहिक विवाह में फेरे सनातन धर्म के अनुसार विधि-विधान से करवाये जायेंगे। विवाह के उपरांत वर-वधू पक्ष को विवाह प्रमाण पत्र भी विवाह समारोह के बाद दिये जायेंगे ।

Leave a Reply