उत्तराखण्ड ज़रा हटके नैनीताल

अब इग्नू से करें परिधान बिक्री (DAPMERA) एवं प्रारंभिक बचपन विशेष शिक्षा सक्षम समावेशन कार्यक्रम (CESEIVI)

ख़बर शेयर करें -

प्रवेश की अंतिम तिथि 31 अगस्त 2023 तक विस्तारित

नैनीताल- इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय  ने जुलाई 2023 सत्र से परिधान बिक्री एवं प्रारंभिक बचपन विशेष शिक्षा सक्षम समावेशन कार्यक्रम शुरू किये हैं जिनमें प्रवेश की अंतिम तिथि 31  अगस्त , 2023 है। इग्नू  क्षेत्रीय केंद्र देहरादून के वरिष्ठ निदेशक डॉ. अनिल कुमार डिमरी ने  बताया कि दोनों ही कार्यक्रम रोजगारपरक हैं। जिन भी शिक्षार्थियों को इन क्षेत्रों में अपना करियर बनाना है उन्हें अवश्य ही इन कार्यक्रमों में प्रवेश लेना चाहिए।

यह भी पढ़ें 👉  रुद्रपुर में पहली बार 41 नव विवाहित जोड़े वैवाहिक बंधन में बंधे……

 

उन्होंने कार्यक्रमों के बारे में संक्षिप्त  जानकारी देते हुए बताया कि परिधान बिक्री में डिप्लोमा कार्यक्रम (DAPMERA )में प्रवेश लेने के लिए अनिवार्य अहर्ता इंटरमीडिएट है।  कार्यक्रम का माध्यम अंग्रेजी है। कार्यक्रम की न्यूनतम  अवधि 01 वर्ष एवं अधिकतम अवधि 03 वर्ष है।  कार्यक्रम कुल 40 क्रेडिट का है जिसमे प्रिंट एवं डिजिटल दोनों ही माध्यमों में स्टडी मटेरियल उपलब्ध है। उन्होंने आगे बताया कि विश्वविद्यालय ने जुलाई 2023 से प्रारंभिक बचपन विशेष शिक्षा सक्षम समावेशन में प्रमाणपत्र कार्यक्रम (CESEIVI) भी शुरू किया है

यह भी पढ़ें 👉  भर्ती की समस्याओं को लेकर यूकेएसएससी आयोग के अध्यक्ष से मिले राष्ट्रवादी रीजनल पार्टी के कार्यकर्ता……..

 

जिसमे प्रवेश की अनिवार्य अहर्ता इंटरमीडिएट है। कार्यक्रम का माध्यम अंग्रेजी है जिसके कुल क्रेडिट 24 हैं।  प्रिंट एवं डिजिटल दोनों ही माध्यमों में स्टडी मटेरियल उपलब्ध है। उन्होंने आगे बताया कि जिन भी शिक्षार्थियों को जुलाई  2023  सत्र में द्वितीय एवं तृतीय वर्ष अथवा सेमेस्‍टर्स लिए पुनः पंजीकरण  करना है उनके लिए भी  आवेदन की अंतिम तिथि  31 अगस्त  , 2023 तक विस्तारित कर दी गई है। शिक्षार्थी प्रवेश के लिए  दी गयी  लिंक https://ignouadmission.samarth.edu.in/  द्वारा  अंतिम तिथि   31 .08 .2023 तक आवेदन कर सकते हैं।  वहीँ जिन शिक्षार्थियों को पुनः पंजीकरण  करना है वे दी गयी लिंक https://onlinerr.ignou.ac.in/ पर जाकर   31.08 .2023 तक आवेदन कर लें

यह भी पढ़ें 👉  भारतीय उद्यमिता विकास संस्थान एवं एसेंचर ने महिलाओं को दी नई पहचान……

 

Leave a Reply