उत्तराखण्ड ज़रा हटके देहरादून

दो दिवसीय खेलो इंडिया वोमेन वुशु लीग के समापन कार्यक्रम को संबोधित करते मंत्री गणेश जोशी……….

ख़बर शेयर करें -

देहरादून-काबिना मंत्री गणेश जोशी ने आज वुशु एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड द्वारा आयोजित दो दिवसीय खेलो इंडिया वोमेन वुशु लीग के समापन कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि प्रतिभाग किया। वोमेन वुशु लीग प्रतियोगिता में प्रदेश के सभी जनपदों के विभिन्न वर्गों के प्रतिभागियों ने हिसा लिया।

 

इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने कहा केंद्र सरकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में खेलों को बढ़ावा देने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। इन निरंतर प्रयासों से ही हमारे एथलीट राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर देश की प्रतिष्ठा को बनाए रखने में प्रयासरत हैं। उन्होंने कहा 2016 में देश को केवल 2 पदक मिले जबकि 2022 के ओलिंपिक खेलों में भारतीय खिलाड़ियों ने 7 पदक हासिल किए। मंत्री गणेश जोशी ने कहा 2014 में जब मोदी जी प्रधानमंत्री बने थे तो खेल बजट 866 करोड़ रुपये था।

यह भी पढ़ें 👉  खाद्य आपूर्ति विभाग के क्षेत्रीय निरीक्षक ने किया पेट्रोल पंप का औचक निरीक्षण…..

 

सरकार ने इसे बढ़ाकर 2 हजार करोड़ रुपये से अधिक कर दिया है। मंत्री ने कहा देशभर में एक हजार खेलो इंडिया केंद्र बनाए जा रहे हैं। 750 केंद्रों को मंजूरी दे दी गई है। इस वर्ष 15 अगस्त 2023 से पहले खेलो इंडिया के 1 हजार केंद्र बनकर तैयार है। उन्होंने कहा पूर्व खिलाड़ियों को एक वर्ष तक केंद्र चलाने के लिए पांच लाख रुपये मिलते है।जिससे उन्हें स्वरोजगार के साथ-साथ खेलकूद का प्रशिक्षण देने का अवसर भी मिलता है। उन्होंने कहा पिछले वर्ष संपन्न हुई वर्ल्ड जूनियर वुशु चैंपियनशिप में भारत ने 8 मेडल के साथ इतिहास रचा है। मंत्री ने कहा साल 2015 बुलगारिया में छठे वर्ल्ड जूनियर वुशु चैंपियनशिप में टीम इंडिया को सिर्फ 1 मेडल मिला था।

यह भी पढ़ें 👉  दस दिन पूर्व से लापता हुए बालक के परिजनों ने बालक की खोज के लिए प्रयास तेज करने की गुहार लगाई.....

 

उन्होंने कहा अब भारतीय खिलाड़ियों ने 7 साल के भीतर कमाल का खेल दिखाया और टीम के युवा प्लेर्स ने 8 मेडल अपने नाम किये। इस अवसर पर मंत्री गणेश जोशी ने सभी प्रतिभागियों के उज्वल भविष्य की भी कामना की। इस अवसर पर इडी ओएनजीसी विकास जगदीश पांडे, मनीषा , आयोजक यानिश सपकाल, सचिव वुशू काजल गौड़, अंजना, मुकेश नैनवाल, नीरज, मौलिकता, अनुराग आदि उपस्थित रहे।

Leave a Reply