उत्तराखण्ड गढ़वाल- ज़रा हटके

उत्तराखंड- घर के आंगन से मासूम को उठा ले गया गुलदार……

ख़बर शेयर करें -

गढ़वाल- कर्णप्रयाग- उत्तराखंड में गुलदार के हमले कम होने का नाम नहीं ले रहे हैं। शहरी और ग्रामीण इलाकों में आए दिन वन्य जीव संघर्ष देखने को मिलता रहता है। वही श्रीनगर में शुक्रवार रात गुलदार ने एक तीन वर्षीय बच्चे पर हमला कर दिया। गुलदार बच्चे को उठाकर घर से दूर झाड़ियों में ले गया। अभी तक बच्चे का कोई सुराग नहीं लग पाया है। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस और वन विभाग की टीम बच्चे की खोजबीन में जुट गई।

यह भी पढ़ें 👉  अवैध कच्ची शराब के कारोबारियों के विरुद्ध अभियान के तहत थाना पुलभट्टा क्षेत्र से  100 पाउच कच्ची शराब एक अभियुक्त गिरफ्तार.......

 

जानकारी के अनुसार, डांग क्षेत्र से सटे सिंदरीगाड़ के पास झोपड-पट्टी में रह रहा तीन वर्षीय सूरज पुत्र हरिद्वारी घर के बाहर आंगन में खेल रहा था, तभी पीछे से हमला कर गुलदार बच्चे को उठा ले गया। बच्चे के परिजनों ने शोर मचाया, लेकिन गुलदार तेजी से भाग निकला। शोर सुनकर आस-पास के लोग बड़ी संख्या में मौके पर एकत्रित हुए। मूल रूप से बरेली निवासी हरिद्वारी करीब तीन माह से यहां किराये की झोपड़ी में रह रहा था।

यह भी पढ़ें 👉  अग्रिम मोर्चे पर विकलांग पूर्वसैनिक ने भावुक होकर कहा- प्यासे हैं ग्रामीण व मवेशी। हर घर बिछा दिये नल, फिर भी नहीं आया जल.....

 

उसकी दो बेटियां और सबसे छोटा बेटा सूरज हाल ही में करीब 15 दिन पहले अपने गांव तहसील फरीदपुर गांव ढढोली नवादा बरेली, उत्तर प्रदेश से यहां आए थे। बच्चे का पिता फेरी लगाकर लहसुन बेचने का काम करता है। गुलदार के हमले के बाद से बच्चे की मां भगवान देवी व परिवार के अन्य सदस्यों का बुरा हाल है। बता दें कि अभी तीन माह पहले ही बुघाणी रोड पर एक बच्चे को गुलदार ने निवाला बनाया था। जबकि एक माह पहले श्रीकोट में भी एक बच्ची पर गुलदार ने हमला कर उसे बुरी तरह घायल कर दिया था।

यह भी पढ़ें 👉  आर्मी पब्लिक स्कूल लैंसडौन को मिला सर्वश्रेष्ठ विद्यालय का पुरुस्कार……

 

जिसका इलाज एम्स ऋषिकेश से चल रहा है। कर्णप्रयाग में भी गुलदार के आतंक से बचने के लिए लोग पटाखे छोड़ रहे हैं।आईटीआई और अपर बाजार वार्ड में आतिशबाजी की जा रही है। शुक्रवार दिन में भी गुलदार ने एक गाय को गौशाला में घुसकर निवाला बनाया था। इससे पहले तीन और मवेशी का भी गुलदार शिकार कर चुका है

 

Leave a Reply