उत्तराखण्ड काशीपुर क्राइम

चोरों ने दिया श्मशान घाट में चोरी की घटना को अंजाम….

ख़बर शेयर करें -

काशीपुर-काशीपुर में रविवार को रात अज्ञात चोरों ने काशीपुर के मुख्य श्मशान घाट को निशाना बनाते हुए चोरी की घटना को अंजाम दे डाला। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस टीम ने श्मशान घाट कमेटी के लोगों एवं श्मशान घाट के केयरटेकर से घटना के बाबत जानकारी ली। श्मशान घाट कमेटी ने पुलिस को तहरीर देकर चोरी की घटना के खुलासे की मांग की है।आपको बताते चलें कि काशीपुर में नशे के कारोबार पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस लगातार नशे की लत को पूरा करने के लिए अपराध करने वालों तथा नशे के कारोबारियों के खिलाफ अभियान चलाकर उनको सलाखों के पीछे धकेल रही है।

यह भी पढ़ें 👉  नैनीताल सीट पर टेंडर और चैलेंज वोट का खाता रहा शून्य, नोट का भी इस्तेमाल.......

 

लेकिन नशे की लत को पूरा करने के लिए अपराध करने वाले अपराध करने से बाज नहीं आ रहे हैं। ऐसा ही एक मामला काशीपुर के मुख्य श्मशान घाट में देर रात्रि में सामने आया है, जहां अज्ञात चोरों ने श्मशान घाट को ही अपना निशाना बना दिया। श्मशान घाट कमेटी के पदाधिकारियों के मुताबिक देर रात्रि अज्ञात चोर श्मशान घाट में दीवार फांदकर दाखिल हुए तथा चोरी की घटना को अंजाम दे डाला। श्मशान घाट कमेटी के पदाधिकारी विकास शर्मा ‘खुट्टू’ के मुताबिक अज्ञात चोर श्मशान घाट में स्थित काली मंदिर के साथ-साथ अंदर के एक ग़ल्ले से कुल 3000 रुपये की नकदी और श्मशान घाट में लगे चार पंखे भी उतार कर ले गए

यह भी पढ़ें 👉  शॉर्ट सर्किट से घर में लगी भीषण आग.....

 

वही उक्त चोर श्मशान घाट में चल रहे वेल्डिंग के काम से जुड़े हाइड्रोजन सिलेंडर ले जाने की हिम्मत न जुटा सके तो उक्त हाइड्रोजन सिलेंडर को श्मशान घाट में स्थित आम के बाग में ही छोड़ गए। उन्होंने बताया कि इससे पहले भी तीन से चार बार चोरों के द्वारा श्मशान घाट में चोरी की घटनाओं को अंजाम दिया जा चुका है जिनका आज तक पुलिस खुलासा नहीं कर पाई जिस वजह से एक बार फिर चोरों ने हिम्मत जुटाते हुए पुनः चोरी की घटना को अंजाम दे डाला। वही श्मशान घाट कमेटी के पदाधिकारियों ने स्थानीय पुलिस अधिकारियों से श्मशान घाट में चोरी की घटना को गंभीरता से लेने की बात करते हुए घटना के जल्द खुलासे की मांग की।

यह भी पढ़ें 👉  सड़क हादसा: युवक को बचाने के चक्कर में गिरी बाइक, दंपती और छोटे भाई की मौत......

Leave a Reply