उत्तराखण्ड ज़रा हटके नैनीताल

डीएसबी परिसर के इग्नू सेंटर का सत्र 2024 जनवरी सत्र का आयोजित हुआ इंडक्शन कार्यक्रम……

ख़बर शेयर करें -

नैनीताल- डीएसबी परिसर के इग्नू सेंटर का सत्र 2024 जनवरी सत्र का इंडक्शन कार्यक्रम आयोजित हुआ इग्नू रीजन सेंटर के सहायक निदेशक डॉक्टर राजीव कुमार ने ऑनलाइन माध्यम से इग्नू  के कार्यक्रमों की जानकारी दी ।डॉक्टर राजीव ने कहा की यह प्रेरक कार्यक्रम है ।उन्होंने कहा की की इग्नू 1985 में स्थापित हुआ तथा इसका काम उच्च शिक्षा को जान जन तक पहुंचना था। डॉक्टर राजीव नए कहा की यह राष्ट्रीय विश्वविद्यालय है इसमें प्रवेश लेना बहुत आसान होता है तथा स्थान भी बदल सकते है ।

यह भी पढ़ें 👉  विकास भवन के सभागार में बाल तस्करी से आयोजित की गई आजादी अभियान 2.0 की संवेदीकरण कार्यशाला….

 

पाठ्यक्रम में  समय सीमा ज्यादा दी गई है नई आधुनिक सिस्टम प्रयोग में लाते है। कोर्स मॉड्यूलर आधार पर बनते है ।विश्व की सबसे बड़ी यूनिवर्सिटी है ।नाक से ए प्लस प्लस यूनिवर्सिटी है।सर्टिफिकेट  6 माह का ,डिप्लोमा एक वर्ष ,बैचलर्स डिग्री तीन वर्ष ,तथा पीजी दो वर्ष के है ।विद्यार्थी को ऑनलाइन  ही प्रवेश लेना हैई ज्ञान कोश से किताबे प्राप्त कर सकते है।इग्नू की परीक्षाएं जून तथा दिसंबर माह में निर्धारित होती है तथा  जनवरी तथा जुलाई  में प्रवेश लेते है तथा परीक्षा से तीन माह पूर्व परीक्षा फॉर्म तथा असाइनमेंट जमा करना होता है।यू ट्यूब,ज्ञान धारा उपलब्ध है ।

यह भी पढ़ें 👉  नैनीताल के दो प्राध्यापकों को आयु पूर्ण करने पर सम्मान समारोह में सम्मानित किया गया......

 

असिंगमेंट 30 मार्क्स तथा टर्म एग्जाम 70 मार्क्स का होता है। असाइनमेंट हस्त लिखित होना चाहिए।इग्नू का इंटीग्रेटेड ग्रीवेंस सेल है ।क्रेडिट ट्रांसफर का ऑप्शन भी है। रीजनल निदेशक डॉक्टर अनिल डिमरी ने कहा की  विद्यार्थी सभी नियम जान ले तथा स्टडी को पूर्ण करने के लिए समय बद्ध चले।सभी सुविधाओ का प्रयोग करे .इग्नू का ऐप डाउनलोड करे तो आसानी से  पढ़ाई करे। सकारात्मक भाव से काम करें।कार्यक्रम में नैनीताल डीएसबी के कोऑर्डिनेटर प्रो ललित तिवारी ने भी विचार रखे तथा कहा की इग्नू ज्ञान के गंगा बहा रहा है

यह भी पढ़ें 👉  विधायक शिव अरोरा ने एक बार फिर पंजीकृत श्रम कार्ड धारको को बाटी टूल किट......

 

जो पड़ना  चाहते उनके के लिए बेहतरीन  मौका है ।इंडक्शन में डॉक्टर मोनिका बिष्ट तथा डॉक्टर जगदम्बा ने भी विचार रखे।विद्यार्थियों ने भी कई प्रश्न किए तथा डॉक्टर राजीव ने सभी का जवाब दिया।

Leave a Reply