उत्तराखण्ड ज़रा हटके

नदी किनारे छोड़ी गई आवारा गाय ने वहीं नवजात बछड़े को दिया जन्म…….

ख़बर शेयर करें -

रिखणीखाल-नदी किनारे छोड़े गये,आवारा गाय ने वहीं नवजात बछड़े को जन्म दिया। कुछ दिन पहले रिखणीखाल के चुरानी- सिद्धखाल के पास पूर्वी नयार नदी में 11 आवारा पशु नदी के तेज बहाव के बीच नदी में फंस गये थे,जिन्हें बामुश्किल पानी का बहाव कम होने पर बाहर निकाला जा सका।

 

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी_बनभूलपुरा हिंसा: मृतको की पत्नियों को जारी हुई विधवा पेंशन…..

इस बीच वहीं के स्थानीय निवासी आशु जोशी ने जानकारी दी है कि उनमें से एक गाय ने 2-3 दिन पहले नदी के किनारे ही नवजात बछड़े को जन्म दे दिया।बछड़ा स्वस्थ है।लेकिन कोई भी स्थानीय निवासी उस दुधारू गाय को पालने को तैयार नहीं है।आजकल आवारा व निरीह पशुओं की हालत ऐसी ही हो रही है कि कोई पालने को साहस नहीं कर रहा है।गाय अपने दो तीन दिन नवजात बछड़े को लेकर नदी के आसपास व जंगल में घूमती फिरती नजर आ रही है।

यह भी पढ़ें 👉  पुलिस को मिली बड़ी सफलता, यहाँ पकड़ा सैक्स रैकेट, यह कॉलोनी मे पहले भी पकड़ा जा चूका है सैक्स रैकेट...

 

जानकारी में ये भी आया है कि इन आवारा पशुओं के कान में आधार कार्ड से लिंक टैग लगे है,इससे इनके मालिकों की पहचान आसानी से हो सकती है।यदि सम्बन्धित विभाग रुचि ले तो। लेकिन ऐसा होना असम्भव प्रतीत होता है। कहावत है” बिल्ली के गले में घंटी कौन बांधेगा।इस इलाके में कयी पशु आवारा देखे जा सकते हैं लेकिन विभाग कोई ठोस कार्रवाई करने से कतराता है।सरकार दावे तो बहुत करती है लेकिन कागजों तक सीमित है।

Leave a Reply