उत्तराखण्ड काशीपुर ज़रा हटके

तेंदुए ने किया हमला, मवेशी घायल, यहाँ नहीं थम रहा तेंदुए का आतंक….. 

ख़बर शेयर करें -

काशीपुर-काशीपुर में मंगलवार को पिछले काफी समय से तेंदुए का आतंक थमने का नाम नहीं ले रहा है। ताजा मामला काशीपुर में मानपुर रोड स्थित पॉलिटेक्निक के सामने पर्वतीय कॉलोनी का है जहां आज बकरियां चरा रहे युवक के सामने ही तेंदुए ने बकरी के बच्चे पर जानलेवा हमला कर उसे घायल कर दिया। युवक के द्वारा कड़ी मशक्कत के बाद तेंदुए के कब्जे से बकरी के बच्चे को छुड़ा लिया।

 

काशीपुर में पिछले काफी दिनों से स्थानीय लोग तेंदुए के साए में जीने के लिए मजबूर है। पिछले कुछ समय से तेंदुआ की दस्तक जसपुर खुर्द द्रोणासागर के पास स्थित गोविषाण टीले के आसपास के क्षेत्र में देखी जा रही थी। वही आज तेंदुए ने मानपुर रोड स्थित पॉलिटेक्निक के सामने पर्वतीय कॉलोनी में बकरी चरा रहे युवक के सामने ही तेंदुए ने बकरी के बच्चे पर जानलेवा हमला कर उसे घायल कर दिया युवक के द्वारा कड़ी मशक्कत के बाद तेंदुए के कब्जे से बकरी के बच्चे को छुड़ा लिया।

यह भी पढ़ें 👉  पुलिस का नशे के विरुद्ध अभियान जारी, 100 नशीले इंजेक्शन के साथ दो अभियुक्त गिरफ्तार.....

 

पर्वती कॉलोनी के रहने वाले यामीन के मुताबिक वह सुबह बकरियां चरा रहे थे कि तभी अचानक उन्होंने देखा कि तेंदुआ बकरी के बच्चे को ले जा रहा था। उन्होंने अपनी जान से ज्यादा प्यारे उस बकरी के बच्चे को उसके चंगुल से छुड़ाने के लिए अपनी जान को जोखिम में डाल लिया और बड़ी मुश्किल से बकरी के बच्चे को शोर मचाने के बाद तेंदुए के चंगुल से छुड़ाया। उनके मुताबिक वन विभाग को सूचना दिए जाने के बाद विभाग से 3 से 4 कर्मचारी पहुंचे तथा बकरी के बच्चे का इलाज कराने की बात कहते हुए आधार कार्ड लेकर चले गए।

यह भी पढ़ें 👉  जसपुर क्षेत्र में, 04.55 ग्राम स्मैक के साथ "स्मैक तस्कर", उधम सिंह नगर पुलिस की गिरफ़्त में…..

 

उनके मुताबिक कर्मचारियों के द्वारा किसी भी तरह की कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई। उन्होंने कहा कि इसके 6 माह पूर्व भी इस तरह की घटना घटित हो चुकी है। उन्होंने इस गम्भीर घटना घटित होने के बावजूद भी के अधिकारी और कर्मचारियों पर लापरवाही भरी कार्यप्रणाली अपनाने के आरोप लगाया। वहीं इस पूरे मामले पर तराई पश्चिमी वन प्रभाग के डीएफओ प्रकाश आर्य ने बताया कि काशीपुर क्षेत्र से लगातार तेंदुए के आबादी की तरफ आने की खबरें संज्ञान में आ रही हैं। उन्होंने कहा कि स्टाफ को निर्देशित कर उक्त क्षेत्रों में गस्त भी कराई जा रही है तो वहीं तेंदुए को पकड़ने के लिए पीJयय भी लगाया गया लेकिन वह पिंजरे में नहीं आया। उन्होंने अचानक हो रही घटना को सही नहीं ठहराया। वही पिजरा लगाने के लिए अधिकारियों यह परमिशन मिलने की बात उन्होंने कही।

Leave a Reply