उत्तराखण्ड ज़रा हटके लालकुआं

विभिन्न सम्मानित मंचों पर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन कर चुकी है – कवयित्री वर्षा शर्मा….

ख़बर शेयर करें -

चक्रधारी की कोमल दशा पर मैया डाट लगाती थी।
जगतनाथ को सारी गोकुल नगरी माखन चोर बताती थी।
जिनके अंदर ब्रह्मांड,धरती, पाताल सब समाया था।
उसने मां का प्यार पाने को श्याम रूप बनाया था।

 

जिसने भरी सभा में द्रौपदी के चीर हरण को थामा था।
उस वंशज को मरवाने वाला अपना ही कंस मामा था।
जिसकी पादुका को पहनकर सुदर्शन सम्मान बने।
आज जगत में रसखान कविराज रसखान बने।

यह भी पढ़ें 👉  क्षेत्र वासियों की लंबे समय से चली जा रही मांग को केंद्र सरकार ने दी स्वीकृति……

 

ना जाने कितने अत्याचारी असुरों को उसने मारा था।
द्वारकेश राधिका की एक प्रेम अश्रु से हारा था।
जिसने प्रीत नग को अपने दामन में ही समा लिया।
मुरलीधर ने चक्र उठाकर सारे जग का उद्धार किया।

यह भी पढ़ें 👉  राणी सती दादी जी मंदिर के उपलक्ष में प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव का आयोजन किया गया.......

 

वैजयंती माला राधा के अखंड प्रेम की निशानी थी।
उस नटखट बालक की सारी ही गोपी दीवानी थी।
जिसके चरणों को मोहन ने अश्रु से धोया था।
प्रेम डोर में एक नाम सुदामा भी पिरोया था।

 

दुर्योधन की मेवा त्यागी भोजन विदुर घर खाया था।
नारी सम्मान में गोविंद ने महायुद्ध रचाया था।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी: जमीयत उलेमा हिन्द ने उपद्रव में मृतकों व घायलों को दी आर्थिक मदद, बेगुनाहों को कानूनी मदद का भी वादा…….

 

– कवयित्री वर्षा शर्मा

कवयित्री के बारे में: 18 वर्षीय युवा कवयित्री वर्षा शर्मा मूल रूप से बागपत के मलकपुर गाँव की निवासी है और विभिन्न सम्मानित मंचों पर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन कर चुकी है. उनको साहित्य के क्षेत्र में कई सम्मानों से नवाज़ा जा चूका है.

Leave a Reply