उत्तराखण्ड सियासत हल्द्वानी

सात जन्मों के बंधन में बंधने के लिए निर्वाचन आयोग की हां भी जरूरी, 19 अप्रैल को होगा मतदान…..

ख़बर शेयर करें -

हल्द्वानी- उत्तराखंड में लोकसभा चुनाव के लिए 19 अप्रैल को मतदान होना है और इस बीच कई घर में वैवाहिक कार्यक्रम होने हैं। बता दें कि, शादी, विवाह आदि कार्यक्रमों के लिए निर्वाचन आयोग की अनुमति जरूरी है। लोकसभा चुनाव के लिए 19 अप्रैल को मतदान होना है और इस बीच कई घर में वैवाहिक कार्यक्रम होने हैं। इस कारण संबंधित परिवार और वर-वधू भी कार्यक्रम की अनुमति के लिए निर्वाचन कार्यालय के चक्कर काट रहे हैं।

अप्रैल में हल्द्वानी समेत आसपास के क्षेत्रों में रोजाना बड़ी संख्या में वैवाहिक कार्यक्रम होने हैं। चूंकि वर्तमान में आदर्श आचार संहिता लागू है लिहाजा शादी, विवाह आदि कार्यक्रमों के लिए निर्वाचन आयोग की अनुमति जरूरी है। कई लोग यहां एमबीपीजी कॉलेज में अपनी विधानसभा क्षेत्र के उप निर्वाचन अधिकारी (एसडीएम) के पास कार्यक्रम की अनुमति लेने के लिए पहुंच रहे हैं। हल्द्वानी निवासी कीर्ती बल्लभ के बेटे की शादी 18 अप्रैल को होनी है। बताया कि औपचारिकताओं के बाद उन्हें वैवाहिक कार्यक्रम आयोजित करने की अनुमति मिल गई है।

इसी तरह भीमताल के ढुंगशिल गांव निवासी मदन तिवारी के भतीजे का विवाह 18 अप्रैल को होना है। बरात भीमताल से हल्द्वानी जानी है और 19 अप्रैल को गांव में महिला संगीत और प्रीतिभोज होना है। तिवारी ने बताया कि आवेदन के बाद बताया गया कि मंगलवार तक उन्हें अनुमति मिल जाएगी। उप निर्वाचन अधिकारी केएन गोस्वामी ने बताया कि जिस क्षेत्र में वैवाहिक कार्यक्रम अथवा इस तरह के अन्य आयोजन होने हैं, उस क्षेत्र के आरओ के स्तर से कुछ औपचारिकताओं के बाद कार्यक्रम कराने की अनुमति दी जा रही है।

यह भी पढ़ें 👉  विकास भवन के सभागार में बाल तस्करी से आयोजित की गई आजादी अभियान 2.0 की संवेदीकरण कार्यशाला….

Leave a Reply